Friday, 18 January 2019

कोई तो ऐसा रस्ता दिखा

💕मैं कब ज़िक्र करूँ तुम्हारा 
उस वक़्त सब इसी के इंतज़ार में थे 
खमोशी में थी इतनी ताक़त 
कि आँखों से एहसास बस निकलने 
की कतार में थे💕



👸🏻💖 छू लूँ तुझे या तुझ में बस जाऊँ 
कोई तो ऐसा रस्ता दिखा 
जिससे हमेशा के लिए तेरा हो जाऊँ 

रँग बनूँ या कोरा रह जाऊँ 
कुछ तो ऐसा समां बना 
कि बस तेरे ही रँग में रँग जाऊँ 

लफ्ज़ लिखूँ या ख़ामोश हो जाऊँ 
कोई तो ऐसी सरगम सज़ा 
कि तेरी धुन में मैं रम़ जाऊँ 

करूँ इश्क़ या करूँ मोहब्बत 
थोड़ी सी तो दीवानगी दिखा 
जिससे तेरी रूह में बस जाऊँ.. 🌹❤️🌹🔱

No comments:

Post a Comment