Thursday, 17 January 2019

इश्क़ में तेरे सनम हाल बेहाल है

इश्क़ में तेरे सनम हाल बेहाल है 
होश न रहे अब जीना दुश्वार है 


तेरे लिए आई हूं छोड़के दुनिया के सब रिश्ते 
एक बस तू ही तेरे लिए मेरी सारी कोशिशें....... 
आप जो इस तरह से ....
कभी कही किस मोड़ पे मिल जाओ मेहरबानी होगी 
आपकी तेरे बिना हम जी कैसे रहे शिकायत होगी आपकी .... 
मेरे जिंदगी को ज़िन्दगी कहना गलत बात होगी 
ज़िन्दगी मेरी तू थी ये तो बस नरक वाली सज़ा होगी 
जीतेजी हम यहां मर गए है 
तुझपे लुटाके अपना सब कुछ हार गए है 
मौत तो आती नही इंतेज़ार बहोत है 
पर या खुदा इबादत से आजाये 
तू ये ख्वाइश बहोत है

No comments:

Post a Comment