Sunday, 27 January 2019

मोहब्बत उनसे करो जिनकी वफ़ा-hindi-sahayri

अश्क बहते रहे उनकी याद में सारी  रात 
ये कायनात भी रोई है खुदा भी परेशान है 
हमारी मांग से उसे खबर न कभी होनी है 
 मोहब्बत उनसे करो जिनकी वफ़ा 
आप तलप हो वरना तड़पेंगे कुछ मेरी तरह, 
 उनके समझने के इंतेजार में 
 ये उम्र निकल जानी है 
 क्योंकि उसे खबर न कभी होनी है

No comments:

Post a Comment