Tuesday, 5 February 2019

सज़ा बन जाती है


सज़ा बन जाती है
 गुज़रे हुए वक़्त की निशानीयाँ... 
 ना जाने क्यूँ मतलब के लिए
 मेहरबान होते हैँ लोग.!!