Friday, 1 February 2019

क्योंकि अब आपकी अमानत है हम hindi-sahayri

सुना है हमारे गलियो में वो रोज़ आया करते है 
 एक झलक के लिए वो श्याम सवेरे तरसते है


मोह्हबत की दुनिया है ये 
 यहाँ मुसाफिर नए है हम 
हाथ थामके चलना हमेशा हमसफ़र 
 क्योंकि अब आपकी अमानत है हम

No comments:

Post a Comment